सरकारी वकील कैसे बने? | Sarkari Vakil Kaise Bane?

0
446
Sarkari vakil kaise bane in hindi, सरकारी वकील कैसे बने? Sarkari lawyer kaise bane
Sarkari vakil kaise bane in hindi, सरकारी वकील कैसे बने? Sarkari lawyer kaise bane
WhatsApp चैनल में अभी जुड़े !
Telegram ग्रुप में अभी जुड़े !

Sarkari vakil kaise bane in hindi 2024 : क्या आप सरकारी वकील बनने का सपना देख रहे है। अगर आप भी जानना चाहते हैं कि सरकारी वकील कैसे बने (How Become Government Advocate) तो इसके बारे में यंहा पर आपको कंप्लीट जानकारी मिलने वाली। अगर आप भी LLB Course कर रहे हैं या फिर करना चाहते है और इसके बाद आपको Sarkari Vakil बनना है तो मेरी ये पोस्ट आपके लिए बहुत ही हेल्फ़फुल वाली है l

Sarkari lawyer kaise bane इससे रिलेटेड आपके सारे सवालों का यंहा पर जबाब मिल जाएगा। जैसेकि इस फील्ड में कैरियर स्कोप क्या है। इसमे कैरियर बनाने के लिए किस Course की जरूरत होती है और इसकी फीस क्या होती है। इसके लिए Best Law College कौन से हैं और इनमे एडमिशन कैसे मिलता है। इन सभी के बारे में यंहा पर आपको जानने को मिलेगा। जिससे कि आप इस फील्ड को सही से जान और समझ पाएंगे और अपने कैरियर का सही डिसीजन ले पाएंगे। How Become a Government lawyer इसके बारे में अब जान लेते हैं।

प्रत्येक व्यक्ति अच्छे पद पर कार्य करना चाहता है, इसके लिए वह उच्च से उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहता है और उसी के अनुरूप अपना जीवन यापन करता है l प्रत्येक व्यक्ति की रूचि अलग-अलग होती है, रूचि के अनुसार ही वह अपना व्यवसाय चुनता है l यदि आप विधि के क्षेत्र में एक सरकारी वकील बनना चाहते है, तो आपको इसके विषय में सम्पूर्ण जानकारी होनी चाहिए l

Table of Contents

सरकारी वकील क्या होता है? | Sarkari lawyer kaise bane

सभी सरकार चाहे वो राज्य सरकार हो या केंद्र सरकार, अपने लिए वकील की नियुक्ति करते है जिन्हें अलग अलग पद अलग अलग नाम से पुकारा जाता है l जैसे केंद्र सरकार के लिए लीगल मुद्दा भारत का महान्यायवादी होता है वही राज्य सरकार के लिए लीगल मुद्दा देखने वाले पद को राज्य का महाधिवक्ता कहाँ जाता है l खैर ये तो बेहद ही ऊँचे स्तर के अनुभवी वकील होते है लेकिन आज सरकारी वकील के रूप में APO या असिस्टेंट प्रासीक्यूटर ऑफिसर के विषय में चर्चा करना जा रहे है l

इसे भी पढ़ेCISF कैसे ज्वाइन करे? CISF की तैयारी कैसे करें?

राज्य सरकार द्वारा हर साल ऐसे अनुभवी वकीलों की नियुक्ति के लिए APO परीक्षा का आयोजन किया जाता है l यदि यह परीक्षा पास करने में सफल हो जाते है तो आपको सरकारी वकील के रूप में राज्य सरकार द्वारा नियुक्त कर लिया जाएगा l

Sarkari Vakil kaise bane in hindi | How to become Government Advocate

फ्रेंड्स लॉ एक ऐसा कैरियर है जिसमे लॉजिकल स्किल और धौर्य को अति आवश्यक होती है। इस फील्ड में चंद दिनों में सफलता मिलना थोड़ा मुश्किल होता है। इसके लिए आपको कड़ी मेहनत और लगन की जरूरत होती है। केश भी केश के प्रति बेहतरीन लॉजिकल स्किल और कॉम्युनिकेशन स्किल इस प्रोफेसन के लिए काफी मायने रखती है।

सरकारी लॉयर या वकील बनने के लिए कैंडिडेट को 12वीं के बाद लॉ में बैचलर डिग्री हासिल करनी होगी। फिलहाल 12वीं के बाद आपको अगर sarakri Vakil बनने के लिए BA LLB Course करना होगा। जिसकी ड्यूरेशन 5 साल होती है। इसमे 10 सेमेस्टर होते हैं। इसके अलावा आप ग्रेजुएशन के बाद 3 बर्षीय LLB Course भी कर सकते हैं।

एलएलबी कोर्स में एडमिशन की प्रक्रिया की बात करें तो इसके लिए विभिन्न यूनिवर्सिटीज Entrance Exam आयोजित करती हैं। आप इन एंट्रेंस एग्जाम में अप्लाई कर सकते हैं और इस एग्जाम को पास कर अच्छे Law College में एडमिशन ले सकते हैं। इसके अलावा कुछ कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में आपको डायरेक्ट ही एडमिशन मिल जाता है।

Entrance Exam For LLB Course in Hindi

अगर आप 12वीं पास कर चुके हैं तो आप इसके बाद आप Common Law एडमिशन टेस्ट (CLAT) एग्जाम में अप्लाई कर सकते हैं। यह एग्जाम ऑनलाइन कंप्यूटर बेस्ड एग्जाम होता है। यह एग्जाम LLB और LLM Course में एडमिशन के लिए आयोजित किया जाता है। क्लेट नेशनल लेवल का लॉ एंट्रेंस एग्जाम होता है। इसको पास करने के बाद स्टूडेंट 21 National Law यूनिवर्सिटी में से किसी मे एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं।

हमारे Telegram चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें : Click Here

क्लैट एंट्रेंस एग्जाम कुल 2 घंटे का होता है। जिसमे 150 MCQ क्वेश्चन पूछे जाते हैं। क्लैट अंडर ग्रेजुएट एलएलबी के लिए कैंडिडेट को 12वीं कम से कम 45% अंको से पास होना चाहिए। वंही एससी/ एसटी उम्मीदवारों के 40% अंक होने आवश्यक हैं। इस एग्जाम में 12वीं क्लास में पढ़ रहे स्टूडेंट्स भी अप्लाई कर सकते हैं। इस एग्जाम में क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड, लॉजिकल रीजनिंग, डिडेक्टिव रीजनिंग, करेंट अफ़ेयर, इंग्लिश जैसे सब्जेक्ट से प्रश्न पूछे जाते हैं। गलत आंसर देने पर 0.25 मार्क्स काट लिए जाते हैं।

यह भी पढ़ें: पुलिस कांस्टेबल कैसे बनें ?

क्लैट एग्जाम के अलावा भी अन्य एंट्रेंस एग्जाम भी Law Course में एडमिशन के लिए आयोजित किये जाते हैं। जैसे कि-

  • लॉ स्कूल एडमिशन टेस्ट (LSAT)
  • आल इंडिया लॉ एंट्रेंस टेस्ट (AILET)
  • सिंबोसीस एंट्रेंस टेस्ट (SET)
  • जिंदाल ग्लोबल लॉ स्कूल टेस्ट

इस तरह से आप Law Course कर सकते हैं। जिसके बाद आपको Advocate के रूप में आपको बार कॉउंसिल ऑफ इंडिया में पंजीकृत करना होगा। इसके बाद आप सरकारी वकील बनने के लिए गवर्नमेंट द्वारा आयोजित किये जाने वाले एग्जाम दे सकते हैं। जिनको क्वालीफाई करने के बाद आप Government Lawyer बन सकते हैं गवर्नमेंट वकील आप दो तरह से बन सकते हैं। सरकारी वकील को अंग्रेजी में Prosecution Officer या Public प्रासीक्यूटर कहते हैं।

Sarkari Vakil Entrance APO Exam

आगर आप LLB Course कर चुके हैं तो आप इसके बाद APO Exam देकर सीधे ही सरकारी वकील बन सकते हैं। Sarakri Lawyer बनने के लिए APO एग्जाम प्रत्येक बर्ष आयोजित किया जाता है। जिसमे Law Greaduate स्टूडेंट्स अप्लाई कर सकते हैं अगर आप इस एपीओ एग्जाम को क्वालीफाई कर लेते हैं तो आपका Sarakri Vakil kaise bane यानी कि सरकारी वकील बनने का सपना पूरा हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: 10th के बाद आर्मी कैसे ज्वाइन करे ?

एपीओ (APO) की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर

  • प्रति वर्ष सरकारी वकील बनने के लिए राज्य सरकार के द्वारा एपीओ की परीक्षा का आयोजन कराया जाता है l
  • इसमें भाग लेने के लिए आपको विधि में स्नातक उत्तीर्ण होना अनिवार्य है l
  • यदि आप सफल हो जाते है, तो आपका चयन एक सरकारी वकील के रूप में कर दिया जाता है l
  • इस प्रकार से चयन होने पर आप को राज्य सरकार पद मुक्त नहीं कर सकती है l

हमारे Telegram चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें : Click Here

एपीओ परीक्षा (APO Exam)

एपीओ की परीक्षा तीन चरणों में संम्पन्न की जाती है-

  • प्रारंभिक परीक्षा
  • मुख्य परीक्षा
  • साक्षात्कार

परीक्षा प्रारूप (Exam Pattern)

परीक्षापेपरअंक
प्रारंभिक परीक्षा1 पेपर150 अंक
मुख्य परीक्षा4 पेपर400 अंक
साक्षात्कार50 अंक

एपीओ परीक्षा सफलता पूर्वक उत्तीर्ण करने के बाद आपका चयन सरकारी वकील के रूप में कर दिया जाता है l

इसे भी पढ़ें: How to Join Indian Army ?

हमारे Telegram चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें : Click Here

इस एग्जाम को पास करने के बाद जब आप Government Lawyer बनते हैं तो कोई भी सरकार आपको निकल नही सकती है। आपको बता दें कि APO Exam तीन पार्ट में होता है। पहला तो प्रारंभिक परीक्षा (प्रश्न वैकल्पिक प्रकार) और दूसरा एग्जाम मुख्य परीक्षा (लिखित परीक्षा) तथा तीसरा एग्जाम पर्सनालिटी टेस्ट (साक्षात्कार) होता है। इसके बाद ही आप Sarkari Advocate के तौर पर नियुक्त किये जाते हैं।

Sarkari Vakil बनने का दूसरा तरीका अनुभव के आधार पर

जी हां दोस्तो आप बिना APO Exam दिए सिर्फ अनुभव के आधार पर भी Sarkari Vakil बनने का सपना पूरा कर सकते हैं। जिसके लिए कम से कम 7 बर्ष का अनुभव वकालत का होना जरूरी होता है। इसके साथ ही उम्र कम से कम 35 बर्ष होना आवश्यक है। इसके लिए आपकी तर्क-वितर्क करने की क्षमता एकदम अच्छी होनी चाहिए। इस तरह से sarakri Lawyer बनने के लिए आपकी राजनीति में भी पकड़ होना चाहिए। जिससे कि सरकार आपका चयन सरकारी वकील के तौर पर करे।

यह भी पढ़ें – नौसेना क्या है? Indian Navy kya hai?

सरकारी वकील अनुभव (Sarkari Vakil Experience) के आधार पर

  • आपके पास न्यूनतम 7 वर्ष का अनुभव और आपकी आयु न्यूनतम 35 वर्ष होनी चाहिए l
  • आप एक बहुचर्चित और प्रसिद्ध वकील हो l
  • आपका राजनीतिक संपर्क भी अच्छा होना चाहिए l
  • राजनीतिक संपर्क अच्छा होने पर आपका चयन सरकारी वकील के रूप में हो सकता है l
  • सरकार के द्वारा चयनित होने पर आप सरकार की इच्छानुसार ही सरकारी वकील के पद रह सकते है, सरकार बदलने पर नयी सरकार द्वारा आपको पद से हटाया जा सकता है l

देखिए फ्रेंडस अगर आप अनुभव के आधार पर Sarakri Advocate बनते हैं तो आपका चयन एक सरकार के द्वारा होता है। आप तब तक इस पद रहेंगे जब तक कि वह सरकार आपको रखेगी। वंही जब वह सरकार बदल जाएगी तो नई सरकार आपको हटा सकती है वह अपने किसी परिचित वकील को अपना वकील बना सकती है। इस तरह से अगर आप अनुभव के आधार पर Government Lawyer बनते हैं तो आपको ये नुकसान हो सकते हैं।

वंही जब आप APO Exam पास करने के बाद Sarkari Vakil बनते हैं तो आप हमेशा सरकारी वकील के तौर पर कार्यरत रहेंगे जितना कि कार्यालय होता है। कोई भी सरकार आपको अपनी इच्छा से पदमुक्त नही कर सकती है। इस तरह से आप इनमे से कोई भी तरीका चुन कर सरकारी वकील बन सकते हैं।

Sarkari Vakil के कार्य [सरकारी वकील कैसे बने?]

  • सरकारी वकील का मुख्य कार्य न्यायालय के कार्यों में सहयोग देना होता है।
  • सरकारी वकील राज्य सरकार के मुकदमो की पैरवी करते हैं। इसके साथ ही सरकारी वकील न्यायालय में सरकार के आदेश के अनुसार मुकदमे की कार्यवाही में भाग लेते हैं।
  • अगर न्यायालय में पीड़ित कोई भी शख्स वकील के खर्च को वहन करने में सक्षम नही है, तो न्यायालय द्वारा उसको वकील देने की सुविधा दी जाती है।

यह भी पढ़े : पटवारी (Patwari) कैसे बने? | Patwari Kaise Bane?

  • जिसके बाद वह sarkari Vakil उस पीड़ित व्यक्ति के मुक़दमें की पैरवी करता है। जिसके लिये पीड़ित व्यक्ति से किसी भी तरह का कोई शुल्क नही बसूला जाता है।
  • एक पब्लिक प्रोसेक्यूटर (Sarkari Vakil) राज्य के जुडिशियरी या न्याय प्रक्रिया का अहम हिस्सा होता है। जोकि न्यायालय में मुकदमा, अपील तथा कानून से जुड़े अन्य प्रक्रियाओं में भाग लेता है।
  • सरकारी वकील का काम केस से जुड़े सभी जरूरी पहलुओं को अदालत के समक्ष प्रस्तुत करता है और अदालत के कार्य मे सहायता करता है।
  • जब किसी भी केस की जांच प्रक्रिया शुरू होती है तो इसके साथ ही पब्लिक प्रोसिक्यूटर यानिकि Sarkari Vakil का कार्य शुरू हो जाता है। पब्लिक प्रोसिक्यूटर जांच के दौरन सबूतों को एकत्र करता है और न्यायालय के सामने प्रस्तुत करता है।
  • प्रस्तावित बिल और बहस की तैयारी में वरिष्ठ सरकारी कर्मचारियों को निर्देशित करने का कार्य।
  • कानूनी दस्तावेज लिखने का कार्य

यह भी पढ़े : CISF Constable कैसे बने?

  • अदालत में मामलों का बचाव या मुकदमा चलाने का कार्य
  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बैठकों में सरकार का प्रतिनिधित्व करने का कार्य करना।
  • नागरिक और आपराधिक मुकदमे को संभालने का कार्य
  • इसके साथ ही पर्यावरण, रोजगार, कर, भेदभाव, और न्याय पर कानून सहित विभिन्न कानूनी मुद्दों पर सरकारी सदस्यों को सलाह देने का कार्य।

हमारे Telegram चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें : Click Here

Sarakri Vakil बनने के लिये स्किल्स

  • बौद्धिक क्षमता
  • तर्क और वितर्क की अच्छी क्षमता
  • प्रेजेंटेशन स्किल
  • राइटिंग स्किल्स
  • कानून का अच्छा ज्ञान
  • मुकदमेबाजी में कुशल होना
  • रचनात्मक समस्या को सुलझाने की क्षमता होनी चाहिए।
  • विश्लेषण करने की क्षमता

Government Lawyer Employment Sector

सरकारी वकीलों की नियुक्ति कई क्षेत्रों में की जाती है जैसे कि-

  • Judiciary
  • Railways
  • Public Infrastructure
  • Public Transit
  • Public Education
  • Municipal Corporations
  • Manufacturing
  • Roadways
  • Military
  • Real Estate
  • Health Care
  • Law Enforcement
  • Political Parties
  • Construction
  • Agriculture

यह भी पढ़ें – आर्मी ऑफिसर (Army Officer) कैसे बनें ? Army officer kaise bane

Best College For LLB Course in India

  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया बैंगलोर
  • नलसर यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ हैदराबाद
  • साइबर लॉ कॉलेज चेन्नई
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी इलाहाबाद
  • नेशनल एकेडमी ऑफ लीगल स्टीडज एंड रिसर्च हैदराबाद
  • इंडियन लॉ इंस्टीट्यूट ई दिल्ली
  • नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी भोपाल
  • राजीव गांधी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ ला पटियाला
  • वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जुरीडिसियल साइंस कलकत्ता
  • राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी लखनऊ
  • सिम्बोसिस लॉ स्कूल पुणे
  • जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल सोनीपत
  • नेेशनल लॉ यूनिवर्सिटी जोधपुर
  • आईएलएस लॉ स्कूल पुणे
  • यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी देहरादून
  • गुजरात लॉ यूनिवर्सिटी
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
  • गोवर्नमेंट लॉ कॉलेज मुंबई
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी
  • जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली
  • कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी
  • इलाहाबाद यूनिवर्सिटी
  • हिदायतउल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी रायपुर
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी कटक
  • पश्चिम बंगाल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ज्यूडिशियल साइंस कोलकाता
  • चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी पटना
  • कलकत्ता यूनिवर्सिटी
  • मुम्बई यूनिवर्सिटी
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी
  • महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी बड़ोदरा
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी गोहाटी
  • ओस्मानिया यूनिवर्सिटी हैदराबाद
  • गवर्नमेंट लॉ कॉलेज मुम्बई
  • कर्नाटक स्टेट लॉ यूनिवर्सिटी
  • मद्रास यूनिवर्सिटी
  • लखनऊ यूनिवर्सिटी
  • सीएसजेएमयू कानपुर
  • यूनिवर्सिटी ऑफ मुंबई

यह भी पढ़ें – नेवी ऑफिसर (Navy Officer) कैसे बने?

उम्मीद है कि Sarkari Vakil kaise bane in hindi [सरकारी वकील कैसे बने?] ये पोस्ट आपको पसन्द आयी होगी। क्योंकि इस पोस्ट में मैंने Government Lawyer kaise bane [सरकारी वकील कैसे बने?] इसके बारे में डिटेल में बताया है। जोकि आपके लिए बहुत ही यूजफुल इन्फॉर्मेशन सबित होगी।

हमारे Telegram चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें : Click Here

यहाँ पर आपको सरकारी वकील बनने के विषय में जानकारी दी गयी है l इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप SenaBharti.in पर विजिट कर सकते है l अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है l

FAQ – सरकारी वकील कैसे बनते है?

Q. एपीओ (APO ) का फुल फॉर्म

Ans. एपीओ का फुल फॉर्म Assistant Prosecution Officer है, इस परीक्षा का आयोजन राज्य सरकार के द्वारा कराया जाता है l

Q. वकील कौन होता हैं?

Ans. वकील को अधिवक्ता अभिभाषक कहाँ जाता है। वकील क्या होता है इसके बारे में आपको सरल भाषा मे बताये तो वह व्यक्ति जिसे न्यायलय में किसी दूसरे व्यक्ति के वाद विवाद का प्रतिपादन करने का अधिकार होता है और वह व्यक्ति के स्थान पर उसे न्याय दिलाने के लिए न्यायालय में दलील प्रस्तुत करता है। उसे वकील कहां जाता है।

Q. सरकारी वकील कैसे बने ?

Ans. सरकारी वकील बनने हेतु आपको विधि में स्नातक होना अनिवार्य है l विधि से स्नातक उत्तीर्ण होने के बाद आप आप दो प्रकार से सरकारी वकील बन सकते है- 1. अनुभव के आधार पर & 2. एपीओ की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर

Q. वकील बनने के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है?

Ans. वकील बनने के लिए बैचलर ऑफ़ लेजिस्लेटिव लॉ (LLB) का कोर्स करना पड़ता है।

Q. वकील की सैलरी कितनी होती है?

Ans. भारत में एक सरकारी वकील को मिलने वाला सलाना औसत वेतन ₹445,861 है। वहीं ये सैलरी धीरे धीरे अनुभव के साथ बढ़ती भी रहती है।

Q. प्राइवेट वकील की तनख्वाह कितनी होती है?

Ans. ऐसे ही हर महीने 1एक से सवा लाख महीने का मिल जाता है। इसे आप तनख्वाह कहें या कारोबार।

Q. 12 के बाद वकील कैसे बने ?

Ans. 12 पास करने के बाद आपको लॉ यूनिवर्सिटी में एड्मिसन लेना होगा, जिसके लिए एंट्रेंस परीक्षा पास करनी होती है, अगर आप सरकारी कॉलेज में एडमिशन चाहते हैं, तो आपको क्लेट एग्जाम देना होगा, अगर आप प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन चाहते हैं, तो फिर LSAT एंट्रेंस पास करना होगा।

Q. ग्रेजुएशन के बाद वकील कैसे बने ?

Ans. अगर आपने ग्रेजुएशन कर लिया है, तो भी चिंता करने की जरुरत नहीं है, अब भी आपके पास काफी टाइम बचा है, इसके बाद आपको कलेट एग्जामिनेशन देना होगा, अगर आप इस परीक्षा में अच्छा रैंक लाते हैं, तो फिर आपका एड्मिसन तीन साल LLB के लिए होगा ।

Q. LLB करने के बाद सरकारी वकील कैसे बने?

Ans. क्लैट परीक्षा (CLAT Exam) में शामिल होकर देश के टॉप संस्थानों में कराए जाने वाले लॉ कोर्स में एडमिशन हासिल किया जा सकता है. कई लोगों को लगता है कि एलएलबी (LLB), एलएलएम (LLM) या लॉ के अन्य कोर्स करके सिर्फ वकालत के क्षेत्र में जा सकते हैं.

Q. भारत में कुल कितने वकील है?

Ans. इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के मुताबिक, देश में 14 लाख पंजीकृत वकील हैं। लीगल प्रोफेशनल्स में कानून की प्रैक्टिस करने वाले और लीगल एजुकेशन से जुड़े लोग शामिल हैं।

Q. क्या भारत में वकील बेरोजगार हैं?

Ans. जैसे-जैसे भारतीय अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत होती जा रही है, कुशल वकीलों की मांग बढ़ रही है। हालांकि, साथ ही, यह एक विरोधाभास है कि बड़ी संख्या में कानून स्नातक बेरोजगार रहते हैं या काम खोजने के लिए संघर्ष करते हैं। ऐसा दो कारणों से हो सकता है। एक यह है कि ये कानून स्नातक पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित नहीं हैं।

Q. वकील धोखा दे तो क्या करें?

Ans. अगर आपका वकील ही आपके केस में आपके साथ धोखा कर रहा है तो क्या करना चाहिए? आप को वकील को तुरंत बदल देना चाहिए। वकील आपका प्रति निधि होता है वह जो कहेगा आप का कहा माना जाएगा। आप किसी भरोसेमंद वकील की सेवा ले।

Q. बैरिस्टर किसे कहते है?

Ans. यदि कोई व्यक्ति लॉ (law) की डिग्री इंग्लैंड से प्राप्त करता है तो उसे बैरिस्टर कहा जाता है. यानी इससे पता चलता है कि बैरिस्टर एक तरह वकील का ही प्रकार होता है जो कि आम कानून न्यायालय में अपनी प्रैक्टिस करता है.

Q. बैरिस्टर और एडवोकेट में क्या फर्क है?

Ans. सैम होता है, कोई फर्क नही है

Q. एडवोकेट, लॉयर और बैरिस्टर इन तीनों में क्या अंतर है?

Ans. एडवोकेट लॉयर और बैरिस्टर यह तीनों ही कानून से जुड़े हुए लोग होते हैं, वैसे लोग जिनके पास कानून की जानकारी होती है, लेकिन इनके बीच में भी कुछ अंतर होते हैं| लॉयर उस व्यक्ति को कहते हैं जो कानून की डिग्री प्राप्त की हो, यानी कि वैसा व्यक्ति जिसके पास कानून की जानकारी हो|

एडवोकेट उस व्यक्ति को कहते हैं जो किसी बार काउंसिल का सदस्य हो, यानी कि ऐसा व्यक्ति जो न्यायालय में खड़ा होकर किसी का पक्ष रख सके यानी की अधिकारिक वक्ता के तौर पर |और बैरिस्टर उस व्यक्ति को कहते हैं जिसने कानून की डिग्री इंग्लैंड से प्राप्त की होती है यानी कि वह व्यक्ति जो इंग्लैंड से कानून की डिग्री हासिल करता है उसे बैरिस्टर कहते हैं

Q. रजिस्ट्री और बैनामा में क्या अंतर है?

Ans. तीन शब्द हैं: पहला बै बयाना, दूसरा बै नामा & रजिस्ट्री
इसको ऐसे समझे पहला का अर्थ एडवांस फॉर परचेज a property with time bound लिमिटेशन अपॉन स्टांप पेपर।
दूसरा सेल ऑफ प्रॉपर्टी
तीसरा सेल प्रॉपर्टी रजिस्टर्ड इन द ऑफिस ऑफ रजिस्ट्रार ऑफ रजिस्ट्रेशन जिसके लिए उचित स्टांप शुल्क और रजिस्ट्री शुल्क सरकार को दिया गया हो।
अतः बै नामा या रजिस्ट्री एक ही बात है।

Tags: Sarkari vakil kaise bane in hindi, How Become Government Advocate, How to become Government Advocate, Sarkari lawyer kaise bane, Government Lawyer kaise bane, Best Law College कौन से हैं, How Become a Government lawyer, सरकारी वकील क्या होता है?, Sarkari Vakeel kaise bane in hindi, Entrance Exam For LLB Course in Hindi, Sarkari Vakeel Entrance APO Exam, Sarkari Vakil Experience, Sarkari Vakeel के कार्य, Sarakri Vakeel बनने के लिये स्किल्स, Government Lawyer Employment Sector, Best College For LLB Course in India, सरकारी वकील कैसे बनते है, सरकारी वकील कैसे बने?

नवीनतम अपडेट के लिए जुड़ें:-

»जॉइन टेलीग्राम»Facebook ग्रुप
»Twitter ग्रुप»Linkedin ग्रुप
»Top Sena Bharti»Tumblr ग्रुप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here